dukh chhupaye huye hain hum dono

dukh chhupaye huye hain hum dono
zakhm khaye huye hain hum dono

aisa lagta hai fir zamane ko
yaad aaye huye hum dono

tu kabhi chaandni thi dhoop tha main
ab to saaye huye hain hum dono
(saya – shadow)

jaise ik doosre ko paa kar bhi
kuch ganwaye huye hain hum dono

jaise ik doosre se sharminda
sar jhukaye huye hain hum dono

jaise ik doosre ki chahat ko
ab bhulaye huye hain hum dono

ishq kaisa kahan ka ahad Faraz
ghar basaye huye hain hum dono
(ahad – promise)

दुःख छुपाये हुए हैं हम दोनों
ज़ख्म खाए हुए हैं हम दोनों

ऐसा लगता है फिर ज़माने को
याद हुए हैं हम दोनों

तू कभी चाँदनी थी धूप था मैं
अब तो साये हुए हैं हम दोनों

जैसे इक दुसरे को पा कर भी
कुछ गँवाए हुए हैं हम दोनों

जैसे इक दुसरे से शर्मिन्दा
सर झुकाए हुए हैं हम दोनों

जैसे इक दुसरे की चाहत को
अब भुलाये हुए हैं हम दोनों

इश्क कैसा कहाँ का अहद फ़राज़
घर बसाये हुए हैं हम दोनों

One thought on “dukh chhupaye huye hain hum dono

Leave a Reply